• इंडो-तिब्बत विकास के लिए करार

    दैनिक जागरण, 9 जुलाई 2014

    KIIT-MoU

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : कीट् विश्वविद्यालय एवं तिब्बत सरकार के केंद्रीय प्रशासन के बीच शिक्षा आधारित एक करारनामा हस्ताक्षर किया गया है। नई दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में तिब्बत प्रशासन की तरफ से डांलवसाग सानगे एवं कीट् के प्रतिष्ठाता अच्यूत सामंत ने इस करारनामा पत्र पर हस्ताक्षर किया है।

    इस करारनामा के जरिए दोनों कीट् व केंद्रीय तिवेतीय प्रशासन संयुक्त रूप से शिक्षा, इतिहास, सामाजिक विकास, जीवन-जीविका व दक्षता विकास एवं परामर्श आधारित अन्य विकास की दिशा में काम करेंगे। इसके साथ ही संयुक्त रूप से कार्यशाला, प्रदर्शनी व सम्मेलन के जरिए दोनों तरफ से छात्र व शिक्षक विनिमय, सास्कृतिक व अनुसंधान आदि दिशा में काम करेंगे।

    कीट् भी तिब्बत में शिक्षा के विकास के क्षेत्र में काम करेगा। इंडो-तिवेतान संबंध को मजबूत करने के लिए दोनों पक्षों ने अपनी सहमति जतायी है। उल्लेखनीय है कि पूर्वी भारत में शिक्षा, स्वास्थ्य व समाजसेवा के क्षेत्र में काम कर अपनी अलग पहचान बनाने वाले कीट् विश्वविद्यालय के संदर्भ में जानने के बाद तिब्बत प्रशासन के डां लवसांग ने कीट् के साथ करारनामा के लिए प्रस्ताव दिया था। कीट् के प्रतिष्ठाता सामंत की सहमति के बाद करारनामा पर हस्ताक्षर किया गया है। डां लवसांग ने इस अवसर पर जल्द ही कीट् का दौरा करने की भी बात कही है।

    गौरतलब है कि इस बीच कीट् व कीस् के प्रतिष्ठाता अच्यूत सामंत को विदेश से तीन सम्मानजनक डाक्टरेट डिग्री मिल चुकी हैं। मंगोलिया के हागई विश्वविद्यालय व सेओल एड्रीन विश्वविद्यालय से दो सम्मानजनक डिग्री मिलने के साथ किरगीज रिपब्लिक के नारेन स्टेट विश्वविद्यालय भी सामन्त को डॉक्टरेट की उपाधि से भूषित कर चुका है।

    Categories: मुख्य समाचार, समाचार

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *