• कनाडा के सीनेटर न्गो ने तिब्बत पर प्रस्ताव पेश किया, मध्यम मार्ग सिद्धांत के आधार पर चीन-तिब्बत वार्ता फि‍र से शुरू करने का अनुरोध किया

    तिब्बत.नेट, 16 मई, 2019

    धर्मशाला। इस सप्ताह की शुरुआत में कनाडा के कंजर्वेटिव पार्टी के सीनेटर मान थान है न्गो ने सीनेट में एक प्रस्ताव पेश किया। इसमें तिब्बत में गंभीर और बार-बार मानवाधिकारों के हनन के बारे में जागरूकता बढ़ाने और तिब्बत की वास्तविक स्वायत्तता दिलाने के लिए चीन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए कनाडा सरकार से आग्रह किया गया है।

    मंगलवार को सीनेट की बहस में बोलते हुए सेन न्गो ने कहा कि वे इस बात को सुनकर ‘अति व्याकुल’ हैं कि कैसे तिब्बत में मौलिक अधिकारों और स्वतंत्रता पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इनमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, धर्म, गतिविधियां और विवेक की आजादी गंभीर रूप से कम हो गई हैं और इनका तेजी से दमन हो रहा है।

    सीनेटर ने कहा, ‘हम सांसद के रूप में इन मुद्दों पर मूकदर्शक बनकर नहीं रह सकते। कनाडा सरकार को और अधिक करने का समय आ गया है।‘

    ‘जिन मौलिक अधिकारों और स्वतंत्रताओं को हम यहां कनाडा में उपभोग करते हैं और उनकी निरंतर रक्षा करते रहते हैं, जिनमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, धर्म, गतिविधियां और विवेक शामिल हैं, तिब्बती स्वायत्त क्षेत्र (टीएआर) और वृहत्तर तिब्बत में ये अधिकार गंभीर रूप से प्रतिबंधित है और उनका तेजी से दमन हो रहा है। तिब्बती लोग चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के हाथों इन प्रतिबंधों के अधीन हैं और इस वजह से पीड़ित हैं।‘

    विशेष रूप से ऐसे समय में जब कनाडा सरकार चीन के साथ अपने व्यापार और आर्थिक संबंधों को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है, सेन न्गो ने जोर देकर कहा कि कनाडा को उच्च स्तर पर चीनी अधिकारियों के साथ द्विपक्षीय या बहुपक्षीय बैठकों और बयानों में तिब्बतियों के मौलिक अधिकारों और स्वतंत्रता के उल्लंघन के बारे में अपनी चिंताओं को याद रखना चाहिए।

    उन्होंने पिछले साल 12 जून को संयुक्त राष्ट्र की विदेश मामलों और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर सीनेट की स्थायी समिति और मानवाधिकार पर सीनेट की स्थायी समिति में सीटीए राष्ट्रपति डॉ. लोबसांग सांगेय की गवाही को याद किया।

    ‘12 जून, 2018 को, विदेश मामलों और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर सीनेट की स्थायी समिति और मानवाधिकारों पर सीनेट की स्थायी समिति ने केंद्रीय तिब्बती प्रशासन जिसे निर्वासि‍त तिब्बती सरकार के नाम से जाना जाता है, के निर्वाचित राष्ट्रपति डॉ. लोबसांग सांगेय के साथ एक विशेष संयुक्त बैठक की थी।

    ‘उस बैठक में श्री सांगेय ने संकेत दिया कि तिब्बत पर एक प्रस्ताव को अपनाकर कनाडा सरकार चीन और तिब्बत के बीच बिना पूर्व शर्त के दलाई लामा द्वारा प्रस्तावित मध्यम मार्ग दृष्टिकोण की भावना से सक्रिय रूप से बातचीत शुरू करने का समर्थन कर सकती है। दलाई लामा का मध्यम मार्ग दृष्टिकोण चीन के संविधान और कानूनों के ढांचे के भीतर तिब्बत के लिए वास्तविक स्वायत्तता चाहता है।

    आगे राष्ट्रपति डॉ सांगेय को उद्धृत करते हुए सीनेटर ने कहा, ‘जैसा कि डॉ लोबसांग सांगेय ने अपनी गवाही के दौरान पुष्टि की थी कि चीन ने तिब्बत के भीतर घुसपैठ पर अत्यधिक निगरानी प्रणाली लागू की है ताकि यात्रा को प्रतिबंधित किया जा सके और किसी भी प्रकार के असंतोष पर अंकुश लगाने के लिए लोगों के आंदोलन की निगरानी की जा सके। उदाहरण के लिए, तिब्बती अपने दैनिक जीवन यापन के लिए खोज में निकलते हैं और उन्हें कई चेक प्वाइंट पर अपनी पहचान प्रस्तुत करने को कहा जाता है। उन्हें अक्सर अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के लिए पासपोर्ट से वंचित कर दिया जाता है। तिब्बत के बारे में वर्ल्ड 2017 की फ्रीडम हाउस की रिपोर्ट में न केवल आजादी पर प्रतिबंधों की रूपरेखा दी गई है, बल्कि तिब्बती स्वायत्त क्षेत्र को राजनीतिक अधिकारों और नागरिक स्वतंत्रता दोनों के लिए सबसे बदतर मानकर संभव कम रेटिंग दी गई- यहां तक कि सीरिया से भी बदतर।’

    राष्ट्रपति डॉ सांगेय की सिफारिश पर ध्यान देते हुए कि कनाडा के सरकारी प्रतिनिधियों और सांसदों के लिए तिब्बत तक पारस्परिक आवागमन की मांग करते हुए सीनेटर ने कहा कि यह ठीक है कि कनाडा को आवश्यक रूप से क्या-क्या करना चाहिए, इसपर विचार करना चाहिए।

    नीचे 14 मई को कनाडाई सीनेट में स्थानांतरित तिब्बत प्रस्ताव जिसे 21 मार्च 2019 को पेश किया गया।

    सीनेट ने कनाडा सरकार से तिब्बत की वास्तविक स्वायत्तता को सक्रिय रूप से समर्थन देने का आग्रह किया और इसके परिणामस्वरूप, चीन सरकार से भी मांग करने के लिए कहा कि :

    (क) चीन-तिब्बती संवाद को अच्छी भावना में और मध्यम मार्ग दृष्टिकोण के आधार पर फि‍र से शुरू करें।

    (ख) तिब्बत में लोगों के भाषाई अधिकारों, आंदोलन की स्वतंत्रता, विचार, विवेक और धर्म का सम्मान किया जाए।

    (ग) सभी तिब्बती राजनीतिक कैदियों को मुक्त किया जाए और विरोधियों पर लगाए गए सभी प्रतिबंधों को समाप्त किया जाए। और

    (घ) किसी तरह के प्रतिबंधों के बिना तिब्बत में कनाडा की पारस्परिक राजनयिक आवागमन का अधिकार प्रदान किया जाए।

    सीनेट ने दलाई लामा द्वारा गेंदन छोकयी नीमा  को आधिकारिक तौर पर 11वें पंचेन लामा के रूप में की गई घोषणा को मान्यता देने का आग्रह किया।

    यह संदेश हाउस ऑफ कॉमन्स को भेजा जाता है ताकि वह सीनेट के मत से परिचित हो सके।

    Categories: मुख्य समाचार, समाचार

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *