• तिब्बत में हो रहे मानवाधिकार हनन के विरोध में निवेदन सौंपा ।

    नागपुर । रिजनल तिब्बत युथ कांग्रेस तथा भारत तिब्बत मैत्री संघ के संयुक्त तत्वावधान में अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारी दिवस के उपलक्ष्य में साम्राज्यवादी चीन द्वारा तिब्बत में हो रहे मानवाधिकार हनन के विरोध में तथा विश्र्व के सबसे छोटे राजनीतिक बंदी 11 वें पेंचेन लामा गेदुन छोक्की निम्मा की रिहाई के लिए भारत के महामहीम राष्ट्रपति , प्रधानमंत्री , विदेश मंत्री , संयुक्त राष्ट्र संघ तथा चिनी दुतावास के  नाम से लामा लोबसांग तेम्बा , अध्यक्ष रिजनल तिब्बति युथ कांग्रेस के नेतृत्व में जिलाधिकारी को निवेदन सौंपा गया । निवेदन में की मांगी में तिब्बत में हो रहा महिला अत्याचारों को रोके , साम्राज्यवादी चीन द्वारा हो रही अत्याचार को रोकने के लिए समिति गठित गठित करने विश्र्व मंच पर प्रयास , चीन द्वारा चलाये जा रहे मुल निवासियों के स्थानांतरण को रोकने , अंतराष्ट्रीय मानव समुदाय द्वारा चीन पर भारी प्रभाव डाला जाएं , दलाई लामा की मध्यस्ती से तिब्बत की समस्या का समाधान ढूंढ निकालने के लिए संयुक्त राष्ट्रसंघ तथा भारत सरकार ने चीन को बाध्य करना आदि है । शिष्टमंडल में लामा लोबसंग तेम्बा , अध्यक्ष रिजनल तिब्बती युथ कांग्रेस , संदेश मिश्राम ,संगठन सचिव ,भारत तिब्बत मैत्री संघ , कुन्छो ओसेर , उपाध्यक्ष रिजनल तिब्बति युथ कांग्रेस , राजेश नानवटकर , उपाध्यक्ष , भारत तिब्बत मैत्री संघ , तेनजिन पसांग , सचिव रिजनल तिब्बती युथ कांग्रेस , जयकुमार रामटेके , सुरेशपाटिल  रेखा लोखंडे , मीरा सरदार , परिवर्तनशील पानतावण , किशोर बागडे , किशोर बोरकर , संदेश ठवरे आदि उपस्थित थे ।

    Categories: तिब्बत पर भारतीय नेताओं के विचार, लेख व विचार, समाचार

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *