• February 11, 2011

    तिब्बत की आजादी एंव विश्व शान्ति के उद्देश्य को लेकर गुरुवार को सारनाथ पहुंचे वलर्ड तिब्बत कांग्रेस के फाउण्डर एंव प्रेसीडेंट डाक्टर महेश यादव का भव्य स्वागत किया गया। केन्द्रीय तिब्बती विश्वविधालय में आयोजित समारोह में तिब्बत मैत्री संघ उत्तर प्रेदश इकाई के भिक्षु एल .एन . शास्त्री ने डाक्टर यादव का परम्पारगत ढंगसे स्वागत किया । डाक्टर यादव को साथ तिब्बत के निर्वाचित सरकार के सांसद डेरी जिम्मे भी रहे। चीन को विश्व में हिंसाकी प्रवृति को बढावा देने तथा तिब्बत की आजादी के उद्देश्य को लेकर डाक्टर यादव ने मध्य प्रदेश के सांची से रक्त हस्ताक्षर अभियान की शुरुआतकी है । यह अभियान 11 फरवारी को बुद्ध की जन्म स्थली हुम्बनी पहुंचकर समाप्त होगी । स्वागत समारोह को सम्बोधित करते हुए डाक्टर महेश यादव ने कहाकि आज विश्व में हिंसा और आतंकवाद तेजी से बढ रहा है। हमें आतंक नहीं उसकी गतिविधियों पर गम्भीरतापूर्वक सोचना होगा। उन्होंने चीन की कुटील नीतियों पर प्रहार करते हुए कहाकि आज चीन का असली चेहरा उजागर हो गया है। अलकायदा हो या लश्कर -ए – तोएबा अथवा माओवदी हो या नक्सली संघटन इन सबके पीछे चीन का हाथ है । चीन ने पहले तिब्बत को गुलाम बनाकर लाखों लोगों की हत्या करके धर्मगुरु परम पावन दलाई लामा को विवश कर अपने देश छोडकर पलायन को विवश कर दिया । यही नहीं चीन ने शांति प्रिय तिब्बत को एकी करण क्षेत्र बनाकर ऐसा हथियार बना लिया है जो भारत ही नहीं सम्पूर्ण एशिया एंव विश्व के लिए घातक है।

    Categories: लेख व विचार, विश्र्व भर में तिब्बत पर गतिविधियां, समाचार

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *