• 3000 फीट की ऊंचाई पर बसा है मिनी तिब्बत,खूबसूरत हैं नजारे

    दैनिक भास्कर, 10 दिसम्बर 2015
    2_1449728969रायपुर। आज से ठीक 26 साल पहले 10 दिसंबर को बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा को नोबल पीस प्राइज दिया गया था। दलाई लामा का जन्म तिब्बत में हुआ था और सिरपुर में दुनिया का सबसे बड़ा बौद्ध स्थल होने की वजह से उनका छत्तीसगढ़ से विशेष लगाव है। उन्हें नोबल पुरस्कार मिलने के 26 साल पूरे होने के अवसर पर हम बता रहे हैं छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जिले में स्थित मैनपाट के बारे में जिसे मिनी तिब्बत के नाम से जाना जाता है। यहां के मठ-मंदिर, लोग, खान-पान, संस्कृति सब कुछ तिब्बत के जैसे हैं।
    छत्तीसगढ़ का शिमला
    मैनपाट समुद्र तल से करीब 3781 फीट ऊंचे स्थान पर बसा है। यहां बारहों महीने मौसम सुहाना रहता है, बारिश के दिनों में बादल जमीन के एकदम करीब आ जाते हैं वहीं सर्दियों में पूरा इलाका बर्फ और कोहरे से ढंक जाता है। चारों तरफ हरियाली और खुशनुमा मौसम की वजह से मैनपाट को छत्तीसगढ़ का शिमला भी कहा जाता है। हर साल हजारों सैलानी यहां पहुंचते हैं।

    चीन के कब्जे के बाद पहुंचे यहां
    10 मार्च 1959 को तिब्बत पर चीन के कब्जे के बाद भारत के जिन पांच इलाकों में तिब्बती शरणार्थियों ने अपना घर-परिवार बसाया, उसमें एक मैनपाट है। मैनपाट के अलग-अलग कैंपों में रहने वाले ये तिब्बती यहां टाऊ, मक्का और आलू की खेती करते हैं। यहां पर सरकार की ओर से हर परिवार को सात-सात एकड़ खेत दिए गए थे ताकि खेती से उनकी आजीविका चल सके। खेती के काम के लिए आसपास के गांवों के आदिवासी मजदूर यहां आते हैं।

    चौथी पीढ़ी रह रही अब
    शुरुआत में करीब 22 सौ लोगों को यहां लाकर बसाया गया था। अब यहां तीसरी और चौथी पीढ़ी रह रही है लेकिन आबादी कमोबेश उतनी ही बनी हुई है क्योंकि एक तो पुरानी पीढ़ी के लोग बचे नहीं और नई पीढ़ी का बड़ा हिस्सा बाहर चला गया है। लेकिन पुरानी पीढ़ी के जो लोग यहां बचे हैं वो यहां खुश हैं और यहीं रहना चाहते हैं।

    अलग-अलग व्यवसाय करते हैं
    खेती करने के अलावा तिब्बती स्थानीय स्तर पर आजीविका के लिए कुछ और काम भी करते हैं। मसलन पॉमेरियन कुत्ता पालना और कालीन बुनना। युवा ठंड के दिनों में ऊनी कपड़े का व्यवसाय करने बाहर चले जाते हैं और तीन महीने घूम-घूमकर व्यवसाय करते हैं। बच्चों के पढऩे के लिए यहां केंद्र सरकार की ओर से विशेष केंद्रीय स्कूल खोले गए हैं। तिब्बतियों के बच्चे इस स्कूल में आठवीं तक की पढ़ाई करते हैं। इसके बाद की पढ़ाई के लिए या तो वे धर्मशाला चले जाते हैं या फिर हिमाचल प्रदेश में डलहौजी या शिमला। यहां सभी कैंपों में मॉनेस्ट्री यानी बौद्ध मंदिर बने हुए हैं और जहां तिब्बती ईश्वर के ध्यान में लीन दिखाई देते हैं।

    Link of news article: http://www.bhaskar.com/news/c-16-1045243-ra0313-NOR.html

    Categories: मुख्य समाचार, समाचार

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *